केंद्र सरकार ने केरल को क्यों दिए ₹21,000 करोड़ रुपए, जानें पूरी खबर

केंद्र सरकार ने केरल को क्यों दिए ₹21,000 करोड़ रुपए, जानें पूरी खबर
केंद्र सरकार ने केरल को क्यों दिए ₹21,000 करोड़ रुपए, जानें पूरी खबर

केरल के गहराते वित्तीय संकट को कम करने के लिए एक महत्वपूर्ण कदम में, केंद्र सरकार ने ₹21,000 करोड़ मंजूर किए हैं, जिससे राज्य अतिरिक्त धन उधार लेने में सक्षम हो जाएगा। यह निर्णय केरल की गंभीर राजकोषीय कमी के बीच एक महत्वपूर्ण हस्तक्षेप के रूप में आया है, जो इस हद तक बढ़ गया था कि राज्य सरकार को वेतन देने के लिए संघर्ष करना पड़ा, जिससे सुप्रीम कोर्ट को कानूनी जांच का सामना करना पड़ा।

हाल के महीनों में, केरल की वित्तीय सेहत काफ़ी ख़राब हो गई है। राज्य, जो अपनी मजबूत कल्याणकारी योजनाओं और विकासात्मक पहलों के लिए जाना जाता है, खुद को गंभीर नकदी संकट से जूझ रहा है। राजकोषीय संकट कई कारकों के संयोजन से बढ़ गया था, जिसमें राजस्व प्रवाह में कमी, महामारी के दौरान सामाजिक कल्याण पर व्यय में वृद्धि और प्राकृतिक आपदाओं की एक श्रृंखला शामिल थी, जिसके कारण पुनर्प्राप्ति और पुनर्निर्माण के लिए पर्याप्त वित्तीय परिव्यय की आवश्यकता हुई।

आर्थिक स्थिति उस समय गंभीर मोड़ पर पहुंच गई जब राज्य सरकार अपने कर्मचारियों को समय पर वेतन देने में विफल रही, जिससे व्यापक चिंता और अशांति पैदा हुई। राजकोषीय आपातकाल की गंभीरता को उजागर करते हुए मामला सर्वोच्च न्यायालय तक पहुंच गया। शीर्ष अदालत की भागीदारी ने राज्य में सार्वजनिक सेवाओं के संभावित पतन को रोकने के लिए तत्काल और पर्याप्त वित्तीय हस्तक्षेप की आवश्यकता को रेखांकित किया।

तात्कालिकता पर प्रतिक्रिया करते हुए, केंद्र सरकार की ₹21,000 करोड़ की मंजूरी केरल को अपने तत्काल वित्तीय दायित्वों का प्रबंधन करने के लिए बहुत आवश्यक वित्तीय स्थान प्रदान करती है। यह मंजूरी केरल को अपनी उधार लेने की क्षमता बढ़ाने की अनुमति देती है, जिससे लंबित वेतन के भुगतान में आसानी होगी और आवश्यक सार्वजनिक सेवाओं की निरंतरता सुनिश्चित होगी।

वित्तीय सहायता से राज्य की अर्थव्यवस्था को अस्थायी रूप से स्थिर करने की उम्मीद है, जबकि केरल सरकार अपने राजस्व सृजन को बढ़ाने और वित्तीय सुधारों को लागू करने के उपाय कर रही है। यह हस्तक्षेप न केवल भारत के वित्तीय प्रबंधन में सहकारी संघवाद को रेखांकित करता है बल्कि राज्य-स्तरीय वित्तीय संकटों को संबोधित करने में केंद्रीय समर्थन की महत्वपूर्ण भूमिका को भी उजागर करता है।

जैसे-जैसे केरल इस वित्तीय उथल-पुथल से उबर रहा है, भविष्य में ऐसे संकटों को रोकने के लिए स्थायी वित्तीय प्रबंधन और संरचनात्मक सुधारों पर ध्यान केंद्रित किया जाएगा। केंद्र सरकार का समर्थन इस दिशा में एक महत्वपूर्ण कदम है, जो वित्तीय स्थिरीकरण की तत्काल आवश्यकता वाले राज्य को जीवन रेखा प्रदान करता है।