Google search engine
Homeदेश-विदेशभारत के आंतरिक मामलों में दखल दे रहा है पाकिस्तान !

भारत के आंतरिक मामलों में दखल दे रहा है पाकिस्तान !

UN राष्ट्र बैठक में राम मंदिर मुद्दा उठाया पाकिस्तान ने।

नई दिल्ली: पाकिस्तान ने संयुक्त राष्ट्र में राम मंदिर का मुद्दा उठाकर एक बार फिर भारत के आंतरिक मामलों में दखल दिया है। देश ने चेतावनी दी है कि अयोध्या में राम मंदिर का संरक्षण “क्षेत्र में शांति” के लिए एक “महत्वपूर्ण खतरा” है।

पाकिस्तान के स्थायी प्रतिनिधि “मुनीरअकरम” ने UN अलायंस ऑफ सिविलाइजेशन के उच्च प्रतिनिधि “मिगुएल एंजेल मोराटिनोस” को एक पत्र लिखा। पत्र में कहा गया, ”पाकिस्तान अयोध्या में ध्वस्त बाबरी मस्जिद के स्थल पर ‘राम मंदिर’ के निर्माण और अभिषेक की कड़े शब्दों में निंदा करता है।

यह पहली बार नहीं है जब पाकिस्तान ने भारत के आंतरिक मामलों में दखल देने की इस तरह की कोशिश की है। अतीत में, उसने संयुक्त राष्ट्र के स्तर पर कश्मीर मुद्दे को उठाने की असफल कोशिश की है। हर बार उसे भारत की ओर से करारा जवाब मिला जिसने पाकिस्तान को आईना दिखाया।

अकरम ने बुधवार को जारी पत्र में कहा कि मंदिर का निर्माण और समर्पण “क्षेत्र में सद्भाव और शांति” के लिए एक महत्वपूर्ण खतरा था और मार्टिनोस के “भारत में धार्मिक स्थलों की सुरक्षा के लिए तत्काल हस्तक्षेप” का आह्वान किया। अकरम ने कहा कि “वाराणसी में ज्ञानवापी मस्जिद और मथुरा में शाही ईदगाह मस्जिद सहित अन्य मस्जिदों को भी इसी तरह के खतरों का सामना करना पड़ता है।

पाकिस्तान के मिशन की ओर से बुधवार को जारी प्रेस कॉन्फ्रेंस में इस बात की पुष्टि की गई कि अकरम ने इस्लामिक सहयोग संगठन (OIC) के राजदूतों की एक बैठक में राम मंदिर को उठाया और समूह ने अगली बैठक के एजेंडे में इसे शामिल करने पर सहमति जताई। प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा गया है कि कुछ राजदूतों ने कुछ यूरोपीय देशों में मस्जिदों पर हमलों का उल्लेख किया और फिलिस्तीन के स्थायी पर्यवेक्षक रियाद मंसूर ने अल-अक्सा में इजरायल की कार्रवाई और मस्जिदों और चर्चों के विध्वंस का जिक्र किया।

DigiKhabar
DigiKhabarhttps://digikhabar.in
DigiKhabar.in हिंदी ख़बरों का प्रामाणिक एवं विश्वसनीय माध्यम है जिसका ध्येय है "केवलं सत्यम" मतलब केवल सच सच्चाई से समझौता न करना ही हमारा मंत्र है और निष्पक्ष पत्रकारिता हमारा उद्देश्य.
RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -
Google search engine

Most Popular

Recent Comments