लोकसभा चुनाव का अंतिम चरण शुरू, 44-दिवसीय चुनावी प्रक्रिया का निर्णायक अंत

लोकसभा चुनाव का अंतिम चरण शुरू, 44-दिवसीय चुनावी प्रक्रिया का निर्णायक अंत
लोकसभा चुनाव का अंतिम चरण शुरू, 44-दिवसीय चुनावी प्रक्रिया का निर्णायक अंत

लोकसभा चुनाव का अंतिम चरण आज शुरू हो गया है, जो 44-दिवसीय मैराथन चुनावी प्रक्रिया का अंत है। कई निर्वाचन क्षेत्रों के मतदाता मतदान करने के लिए मतदान केंद्रों की ओर बढ़ रहे हैं, जो भारत के संसद के निचले सदन में सीटों के लिए चुनाव लड़ रहे उम्मीदवारों के भाग्य का फैसला करेंगे। 4 जून को घोषित होने वाले परिणाम नई सरकार की संरचना का निर्धारण करेंगे।

इस अंतिम चरण में उत्तर प्रदेश, पश्चिम बंगाल, बिहार, मध्य प्रदेश, पंजाब, हिमाचल प्रदेश, झारखंड और चंडीगढ़ सहित आठ राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों के 59 निर्वाचन क्षेत्र शामिल हैं। यह दुनिया की सबसे बड़ी लोकतांत्रिक प्रक्रियाओं में से एक का एक महत्वपूर्ण मोड़ है, जिसमें 100 मिलियन से अधिक मतदाता इस अंतिम चरण में भाग लेने के पात्र हैं।

चुनाव आयोग के अधिकारियों ने आज सुबह मतदान शुरू होने के बाद से ही भारी मतदान की सूचना दी है। सुचारू और निष्पक्ष चुनावी प्रक्रिया सुनिश्चित करने के लिए व्यापक सुरक्षा व्यवस्था की गई है, खासकर उन क्षेत्रों में जिन्हें संवेदनशील या गड़बड़ी की संभावना वाले क्षेत्रों के रूप में पहचाना जाता है।

तीसरे कार्यकाल की तलाश कर रहे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने नागरिकों से बड़ी संख्या में मतदान करने का आग्रह किया। उन्होंने सुबह ट्वीट किया, “आपका वोट भारत के भविष्य को आकार देगा। अपने अधिकार का प्रयोग करें और राष्ट्र के प्रति अपना कर्तव्य निभाएँ।” इसी तरह, विपक्षी नेताओं ने भी मतदाताओं से सक्रिय रूप से भाग लेने का आह्वान किया है, जिसमें बदलाव लाने में इस चुनाव के महत्व पर जोर दिया गया है।

राजनीतिक विश्लेषकों ने बताया है कि यह अंतिम चरण कई प्रमुख युद्धक्षेत्र राज्यों में निर्णायक हो सकता है। उदाहरण के लिए, पश्चिम बंगाल में, भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) और तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) के बीच मुकाबला विशेष रूप से कड़ा रहा है, जिसमें दोनों दल अनिर्णीत मतदाताओं को अपने पक्ष में करने के लिए अंतिम प्रयास कर रहे हैं।

विस्तारित चुनाव अवधि में रैलियों, रोड शो और सार्वजनिक बैठकों की भरमार देखी गई है, जिसमें उम्मीदवार और पार्टी नेता समर्थन हासिल करने के लिए देश भर में घूम रहे हैं। आर्थिक विकास, रोजगार सृजन, राष्ट्रीय सुरक्षा और कोविड-19 महामारी से निपटने जैसे मुद्दे अभियान के एजेंडे पर हावी रहे हैं।

4 जून को जब पूरा देश नतीजों का इंतजार कर रहा है, तो चुनाव आयोग मतगणना प्रक्रिया की निगरानी करेगा, जिसके सख्त और पारदर्शी होने की उम्मीद है। नतीजे न केवल अगली सरकार के गठन का फैसला करेंगे, बल्कि मौजूदा राजनीतिक परिदृश्य और देश के सामने आने वाले दबाव वाले मुद्दों पर जनता के रुख को भी दर्शाएंगे।

अंत में, लोकसभा चुनाव का अंतिम चरण भारत में एक महत्वपूर्ण लोकतांत्रिक प्रक्रिया की परिणति का प्रतीक है। देश अपने नए नेताओं के चुनाव की कगार पर है, दुनिया इस पर करीब से नज़र रखे हुए है कि कैसे सबसे बड़ा लोकतंत्र अपने मतदान के मूलभूत अधिकार का प्रयोग करता है, जो इसकी राजनीतिक यात्रा के अगले अध्याय के लिए मंच तैयार करता है।