Google search engine
Homeव्यक्ति विशेषRabindranath Tagore Jayanti 2024: एक साहित्यिक दिग्गज की विरासत का स्मरणोत्सव, और...

Rabindranath Tagore Jayanti 2024: एक साहित्यिक दिग्गज की विरासत का स्मरणोत्सव, और उनके 10 प्रेरणादायक वाक्य

एक साहित्यिक दिग्गज की विरासत का स्मरणोत्सव, और उनके 10 प्रेरणादायक वाक्य

एक साहित्यिक दिग्गज की विरासत का स्मरणोत्सव, और उनके 10 प्रेरणादायक वाक्य

प्रत्येक वर्ष 7 मई को मनाई जाने वाली रवीन्द्रनाथ टैगोर जयंती, प्रसिद्ध कवि, दार्शनिक और नोबेल पुरस्कार विजेता रवीन्द्रनाथ टैगोर की जयंती है। चूँकि दुनिया इस साहित्यिक विभूति को श्रद्धांजलि दे रही है, यह साहित्य, कला और मानवता में उनके योगदान के महत्व पर विचार करने का एक उपयुक्त अवसर है।

7 मई, 1861 को कोलकाता, भारत में जन्मे, रवीन्द्रनाथ टैगोर एक विपुल लेखक थे, जिनकी साहित्यिक कृतियाँ सांस्कृतिक और भाषाई सीमाओं से परे थीं, जिससे उन्हें अंतर्राष्ट्रीय प्रशंसा और पहचान मिली। टैगोर की बहुमुखी प्रतिभा में कविता, गद्य, उपन्यास, निबंध, गीत और नाटक शामिल थे, जो मानवीय स्थिति और जीवन के अंतर्संबंध में उनकी गहन अंतर्दृष्टि को प्रदर्शित करते थे।

रवीन्द्रनाथ टैगोर जयंती का महत्व: भारत के महानतम साहित्यकारों में से एक के जीवन और विरासत का सम्मान करने के दिन के रूप में रवींद्रनाथ टैगोर जयंती का अत्यधिक महत्व है। टैगोर की साहित्यिक रचनाएँ दुनिया भर के पाठकों के बीच गूंजती रहती हैं, प्रेम, प्रकृति, आध्यात्मिकता और सामाजिक न्याय के अपने शाश्वत विषयों से पीढ़ियों को प्रेरित करती हैं। अपनी साहित्यिक उपलब्धियों से परे, रवीन्द्रनाथ टैगोर एक दूरदर्शी विचारक और समाज सुधारक थे जिन्होंने शिक्षा, महिलाओं के अधिकारों और सांस्कृतिक पुनरुत्थान के मुद्दों का समर्थन किया। शिक्षा और कला के क्षेत्र में उनके अग्रणी प्रयासों ने शांतिनिकेतन में विश्व-भारती विश्वविद्यालय की स्थापना की नींव रखी, जो एक अद्वितीय संस्थान है जो समग्र शिक्षा और सांस्कृतिक आदान-प्रदान को बढ़ावा देता है।

रवीन्द्रनाथ टैगोर के 10 प्रेरणादायक उद्धरण:

1. “अपने जीवन को पत्ते की नोक पर ओस की तरह समय के किनारों पर हल्के से नाचने दो।”
2. “उच्चतम शिक्षा वह है जो हमें केवल जानकारी नहीं देती बल्कि हमारे जीवन को समस्त अस्तित्व के साथ सामंजस्य स्थापित करती है।”
3. “विश्वास वह पक्षी है जो तब रोशनी महसूस करता है जब भोर अभी भी अंधेरा होती है।”
4. “केवल खड़े होकर पानी को घूरते रहने से आप समुद्र पार नहीं कर सकते।”
5. “तितली महीनों को नहीं बल्कि क्षणों को गिनती है और उसके पास पर्याप्त समय होता है।”
6. “किसी बच्चे को केवल अपनी शिक्षा तक सीमित न रखें, क्योंकि वे किसी और समय में पैदा हुए हैं।”
7. “प्यार एक अंतहीन रहस्य है, क्योंकि इसे समझाने के लिए और कुछ नहीं है।”
8. “बादल मेरे जीवन में तैरते हुए आते हैं, अब बारिश लाने या तूफान लाने के लिए नहीं, बल्कि मेरे सूर्यास्त आकाश में रंग जोड़ने के लिए।”
9. “हर बच्चा यह संदेश लेकर आता है कि भगवान अभी भी मनुष्य से हतोत्साहित नहीं हुए हैं।”
10. “जो फूल अकेला है उसे असंख्य कांटों से ईर्ष्या करने की आवश्यकता नहीं है।”

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -
Google search engine

Most Popular

Recent Comments