अरविंद केजरीवाल को सुप्रीम कोर्ट से झटका, अंतरिम जमानत की याचिका पर वेकेशन बेंच ने सुनवाई से किया इनकार

अरविंद केजरीवाल को सुप्रीम कोर्ट से झटका, अंतरिम जमानत की याचिका पर वेकेशन बेंच ने सुनवाई से किया इनकार
अरविंद केजरीवाल को सुप्रीम कोर्ट से झटका, अंतरिम जमानत की याचिका पर वेकेशन बेंच ने सुनवाई से किया इनकार

नई दिल्ली: दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने गंभीर स्वास्थ्य समस्याओं को प्राथमिक कारण बताते हुए अपनी अंतरिम जमानत की अवधि सात दिन बढ़ाने की मांग करते हुए सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटाया है। अपनी याचिका में, केजरीवाल ने अपनी गिरफ़्तारी के बाद से 7 किलोग्राम वजन कम होने का उल्लेख किया है, जिससे उनकी बिगड़ती स्वास्थ्य स्थिति के बारे में चिंताएँ बढ़ गई हैं।

कानूनी लड़ाई में उलझे केजरीवाल को चल रही जांच के कारण पहले अंतरिम जमानत दी गई थी। हालाँकि, इस अवधि के दौरान मुख्यमंत्री का स्वास्थ्य कथित तौर पर खराब हो गया, जिससे उनकी कानूनी टीम को विस्तार के लिए आवेदन करना पड़ा। याचिका के अनुसार, वजन कम होने और अन्य अनिर्दिष्ट स्वास्थ्य जटिलताओं के कारण केजरीवाल के लिए आगे चिकित्सा सहायता लेना और आराम करना अनिवार्य हो गया है।

अनुरोध में गिरफ्तारी और उसके बाद की कानूनी कार्यवाही से केजरीवाल के स्वास्थ्य पर पड़ने वाले प्रभाव पर प्रकाश डाला गया है। उनके वकीलों ने इस बात पर जोर दिया है कि मुख्यमंत्री को चल रही कानूनी प्रक्रियाओं में पूरी तरह से भाग लेने और अपने आधिकारिक कर्तव्यों को पूरा करने से पहले अपने स्वास्थ्य को ठीक करने और स्थिर करने के लिए अतिरिक्त समय की आवश्यकता है।

उम्मीद है कि सुप्रीम कोर्ट केजरीवाल की याचिका पर विचार करेगा, जिसमें उनकी स्वास्थ्य स्थिति को चल रही जांच की आवश्यकताओं के अनुरूप माना जाएगा। कानूनी विशेषज्ञों का सुझाव है कि यदि पर्याप्त चिकित्सा साक्ष्य बिगड़ते स्वास्थ्य के दावों का समर्थन करते हैं तो अदालत विस्तार दे सकती है। इस अनुरोध का परिणाम न केवल केजरीवाल की कानूनी स्थिति बल्कि दिल्ली सरकार के प्रशासनिक कार्यों पर भी महत्वपूर्ण प्रभाव डालेगा।

केजरीवाल के स्वास्थ्य संबंधी मुद्दों ने व्यापक ध्यान आकर्षित किया है, उनके समर्थकों ने उनकी भलाई पर चिंता व्यक्त की है। राजनीतिक विश्लेषकों का कहना है कि यह स्थिति कानूनी विवादों में उलझे सार्वजनिक अधिकारियों पर भारी दबाव और तनाव को रेखांकित करती है। राजधानी शहर के मामलों का प्रभावी ढंग से नेतृत्व और प्रबंधन करने की मुख्यमंत्री की क्षमता उनके ठीक होने और समग्र स्वास्थ्य पर निर्भर करती है।