सुपरस्टॉर अभिनेता रजनीकांत को मिला संयुक्त अरब अमीरात का प्रतिष्ठित गोल्डन वीज़ा, जानें क्या है इसके फायदे

सुपरस्टॉर अभिनेता रजनीकांत को मिला संयुक्त अरब अमीरात का प्रतिष्ठित गोल्डन वीज़ा, जानें क्या है इसके फायदे 
सुपरस्टॉर अभिनेता रजनीकांत को मिला संयुक्त अरब अमीरात का प्रतिष्ठित गोल्डन वीज़ा, जानें क्या है इसके फायदे

सिनेमा और संस्कृति में उनके अपार योगदान की एक महत्वपूर्ण मान्यता में, प्रसिद्ध भारतीय अभिनेता रजनीकांत को संयुक्त अरब अमीरात (यूएई) द्वारा प्रतिष्ठित गोल्डन वीजा से सम्मानित किया गया है। यह सम्मान मनोरंजन उद्योग पर रजनीकांत के महत्वपूर्ण प्रभाव और उनके वैश्विक सांस्कृतिक प्रभाव को उजागर करता है।

यूएई का गोल्डन वीज़ा 2019 में यूएई सरकार द्वारा शुरू किया गया एक दीर्घकालिक निवास वीज़ा है। इसका उद्देश्य प्रतिभाशाली व्यक्तियों, निवेशकों और उत्कृष्ट पेशेवरों को विस्तारित निवास विशेषाधिकार प्रदान करके आकर्षित करना और बनाए रखना है। वीज़ा प्राप्तकर्ताओं को राष्ट्रीय प्रायोजक की आवश्यकता के बिना संयुक्त अरब अमीरात में रहने, काम करने और अध्ययन करने की अनुमति देता है, और इसमें संयुक्त अरब अमीरात के भीतर उनके व्यवसाय के 100% स्वामित्व का लाभ शामिल है। यह पहल नवाचार और उत्कृष्टता के लिए वैश्विक केंद्र बनने की यूएई की रणनीति का हिस्सा है।

रजनीकांत, जिनका शानदार करियर चार दशकों से अधिक समय से फैला हुआ है और जिनके प्रशंसक दुनिया भर में फैले हुए हैं, ने इस सम्मान के लिए अपना आभार व्यक्त किया। रजनीकांत ने कहा, “यूएई का गोल्डन वीजा पाकर मैं बहुत आभारी हूं और सम्मानित महसूस कर रहा हूं। यूएई हमेशा से मेरे लिए खास रहा है और यह मान्यता उस सांस्कृतिक पुल का प्रमाण है जो सिनेमा देशों के बीच बनाता है।”

उद्यमियों, शोधकर्ताओं, चिकित्सा पेशेवरों और कलाकारों सहित विभिन्न क्षेत्रों में विभिन्न व्यक्तियों को गोल्डन वीज़ा प्रदान किया गया है, जिन्होंने अपने संबंधित क्षेत्रों में महत्वपूर्ण योगदान दिया है। इस विशिष्ट समूह में रजनीकांत को शामिल करने का यूएई सरकार का निर्णय अभिनेता के वैश्विक कद और सांस्कृतिक और मनोरंजन क्षेत्रों में उनके सम्मान को रेखांकित करता है।

उनकी प्रशंसा अन्य प्रमुख भारतीय हस्तियों के नक्शेकदम पर चलती है, जिन्हें गोल्डन वीजा मिला है, जैसे अभिनेता शाहरुख खान और संजय दत्त, जो भारत और संयुक्त अरब अमीरात के बीच मजबूत सांस्कृतिक और आर्थिक संबंधों का प्रतीक हैं।

रजनीकांत को गोल्डन वीज़ा मिलना न केवल सिनेमा में उनकी उल्लेखनीय उपलब्धियों का जश्न मनाता है बल्कि संयुक्त अरब अमीरात और भारत के बीच सांस्कृतिक संबंधों को भी मजबूत करता है। इस मान्यता से दोनों देशों के बीच कला और मनोरंजन में सहयोग को बढ़ावा मिलने की उम्मीद है, जिससे उनकी साझा सांस्कृतिक समृद्धि और विविधता में योगदान होगा।