दिल्ली में पानी का गंभीर संकट सीएम केजरीवाल ने केंद्र सरकार से मांगी मदद

दिल्ली में पानी का गंभीर संकट सीएम केजरीवाल ने केंद्र सरकार से मांगी मदद
दिल्ली में पानी का गंभीर संकट सीएम केजरीवाल ने केंद्र सरकार से मांगी मदद

बढ़ते तापमान और घटते जल स्तर के कारण दिल्ली में पानी का गंभीर संकट है। मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने लाखों निवासियों की भलाई के लिए खतरा बने इस बढ़ते संकट से निपटने के लिए केंद्र सरकार से तत्काल मदद की अपील की है।

दिल्ली में पानी की कमी के लिए कई कारण जिम्मेदार हैं, जिनमें अपर्याप्त वर्षा, भूजल का अत्यधिक दोहन और यमुना नदी का घटता जल स्तर शामिल है, जो शहर के लिए पानी का प्राथमिक स्रोत है। हाल के हफ्तों में तापमान में तेजी से वृद्धि होने के कारण पानी की मांग बढ़ गई है, जिससे शहर के कई हिस्सों में पानी की भारी कमी हो गई है।

एक सार्वजनिक बयान में सीएम केजरीवाल ने स्थिति की गंभीरता और तत्काल हस्तक्षेप की आवश्यकता पर प्रकाश डाला। उन्होंने कहा, “दिल्ली अभूतपूर्व जल संकट का सामना कर रही है। हम स्थिति को संभालने के लिए अपनी क्षमता के अनुसार हर संभव प्रयास कर रहे हैं, लेकिन हमें यह सुनिश्चित करने के लिए केंद्र सरकार से तत्काल सहायता की आवश्यकता है कि हमारे नागरिकों को पर्याप्त मात्रा में पानी की आपूर्ति हो सके।” शहर में जलापूर्ति के लिए जिम्मेदार एजेंसी दिल्ली जल बोर्ड (डीजेबी) ने बताया है कि यमुना नदी में जल स्तर बहुत कम हो गया है। डीजेबी के उपाध्यक्ष ने कहा, “वजीराबाद तालाब में जल स्तर बहुत कम हो गया है, जिससे जल उपचार संयंत्रों की उत्पादन क्षमता प्रभावित हो रही है। हम उपलब्ध पानी को राशन करने की कोशिश कर रहे हैं, लेकिन स्थिति बहुत खराब है।”

केंद्र सरकार से संकट को कम करने में मदद के लिए हरियाणा और उत्तर प्रदेश जैसे पड़ोसी राज्यों से पानी का आवंटन बढ़ाने का आग्रह किया गया है। इसके अतिरिक्त, सीएम केजरीवाल ने स्थानीय जल निकायों और वर्षा जल संचयन परियोजनाओं के पुनरुद्धार जैसे दीर्घकालिक समाधानों के त्वरित क्रियान्वयन का आह्वान किया है।

दिल्ली के कई इलाकों में रहने वाले लोगों को रुक-रुक कर पानी की आपूर्ति का सामना करना पड़ रहा है, कुछ इलाकों में तो हर दिन केवल कुछ घंटों के लिए ही पानी मिल रहा है। इससे लोगों में निराशा और विरोध बढ़ रहा है, क्योंकि लोग अपनी दैनिक जरूरतों को पूरा करने के लिए संघर्ष कर रहे हैं।

पर्यावरण विशेषज्ञों ने भविष्य में इस तरह के संकटों को रोकने के लिए स्थायी जल प्रबंधन प्रथाओं की आवश्यकता पर भी जोर दिया है। “भारत के जलपुरुष” के रूप में जाने जाने वाले जल संरक्षण विशेषज्ञ डॉ. राजेंद्र सिंह ने कहा, “दिल्ली को अपने जल संसाधनों के संरक्षण, जल अवसंरचना में सुधार और कुशल जल उपयोग प्रथाओं को लागू करने पर ध्यान केंद्रित करने की आवश्यकता है।”

जैसे-जैसे दिल्ली का जल संकट गहराता जाएगा, राजधानी के निवासियों के लिए जल सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए तत्काल राहत प्रदान करने और दीर्घकालिक रणनीति तैयार करने में राज्य और केंद्र सरकारों के बीच सहयोग महत्वपूर्ण होगा।