Vat Savitri 2024: जानिए वट सावित्री व्रत की तिथि, पूजा विधि, नियम और महत्व

जानिए वट सावित्री व्रत की तिथि, पूजा विधि, नियम और महत्व
जानिए वट सावित्री व्रत की तिथि, पूजा विधि, नियम और महत्व

इस साल वट सावित्री व्रत 6 जून को मनाया जाएगा। वट सावित्री व्रत विवाहित हिंदू महिलाओं द्वारा मनाया जाता है। द्रिक पंचांग की वेबसाइट पर बताया गया है कि “पौराणिक कथा के अनुसार महान सावित्री ने मृत्यु के देवता भगवान यम को धोखा दिया और उन्हें अपने पति सत्यवान के जीवन को वापस करने के लिए मजबूर किया। इसलिए विवाहित महिलाएं अपने पति की भलाई और लंबी उम्र के लिए वट सावित्री व्रत रखती हैं।” यह त्यौहार ज्यादातर बिहार, उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश, पंजाब और हरियाणा राज्यों में मनाया जाता है जो पूर्णिमांत कैलेंडर का पालन करते हैं।

अमांत और पूर्णिमांत चंद्र कैलेंडर में हिंदुओं के अधिकांश त्यौहार एक ही दिन पड़ते हैं। हालाँकि, वट सावित्री व्रत को जो बात खास बनाती है, वह यह है कि पूर्णिमांत कैलेंडर में वट सावित्री व्रत ज्येष्ठ अमावस्या के दौरान मनाया जाता है जो शनि जयंती के साथ भी मेल खाता है, अमांत कैलेंडर में वट सावित्री व्रत, जिसे वट पूर्णिमा व्रत भी कहा जाता है, ज्येष्ठ पूर्णिमा के दौरान मनाया जाता है।

वट सावित्री व्रत की तिथि और समय

वट सावित्री अमावस्या गुरुवार, 6 जून, 2024 को है। दरअसल कई लोग दुविधा में है कि वट सावित्री 5 तारिक को है लेकिन आपको बता दें कि अमावस्या तिथि 05 जून 2024 को शाम 07:54 बजे प्रारम्भ हो रही है जो 06 जून 2024 को शाम 06:07 बजे समाप्त होगा।

वट अमावस्या व्रत विधि

व्रत की पूर्व संध्या पर स्नान करके बरगद के पेड़ के नीचे देवी सावित्री और सत्यवान की पूजा करें। कच्चे सूत से बरगद के पेड़ की परिक्रमा करें और रात में सात्विक भोजन करें। व्रत वाले दिन सुबह जल्दी उठकर स्नान करें, हल्के पीले रंग के कपड़े पहनें और व्रत का संकल्प लें। इसके बाद विधि-विधान से देवी सावित्री और सत्यवान की पूजा करें। कथा पढ़ें, बरगद के पेड़ की परिक्रमा करें और शाम को सूर्यास्त के बाद व्रत खोलें।

महत्व

वट सावित्री व्रत पौराणिक पात्र सावित्री के सम्मान में मनाया जाता है, जो अपनी अटूट भक्ति और दृढ़ संकल्प के लिए जानी जाती हैं। महाभारत के अनुसार, सावित्री के पति सत्यवान की शादी के एक साल के भीतर ही मृत्यु हो गई थी। नियत दिन पर, सावित्री ने मृत्यु के देवता यम का अनुसरण किया और अपनी भक्ति और चतुराई से अपने पति के जीवन को सुरक्षित किया। यह व्रत प्रतिकूलताओं पर काबू पाने में पत्नी के समर्पण और प्रेम की शक्ति का प्रतीक है।

वट सावित्री व्रत मनाने से वैवाहिक निष्ठा और भक्ति के मूल्यों को बल मिलता है, जो सावित्री की साहस और दृढ़ता की कहानी से प्रेरणा लेता है। जब विवाहित महिलाएं इस व्रत को मनाने के लिए एक साथ आती हैं, तो इससे समुदाय और साझा सांस्कृतिक विरासत की भावना को बढ़ावा मिलता है।